HomeNewsपहले Sulli फिर Bulli Bai, किया जा रहा है नीलाम, क्या है...

पहले Sulli फिर Bulli Bai, किया जा रहा है नीलाम, क्या है महिला संप्रदाय की भविष्य

एक सोशल मीडिया ऐप में हुई मुस्लिम महिलाओं की नीलामी, सैकड़ों मुस्लिम महिलाओं के तस्वीर कड़ी गई अपलोड, नेटिज़न्स और राजनेताओं ने नाराजगी व्यक्त की, FIR दर्ज कराई गई, दिखाई नहीं दी गिरफ्तारी इस केस में, अन्य महत्वपूर्ण शीर्ष केंद्र नजर में-

हाल ही में, एक सनसनी मचा देने, वाले खबर सामने आया है, एक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म, Bulli Bai के माध्यम से भारतीय मुस्लिम महिलाओं और लड़कियों को निशाना बनाया गया, उनके दसवीं की डाली गई और लोगों को बोली लगाने के लिए बोला गया। उन तस्वीर को नीचे “your Bulli Bai Of the day is” लिखकर ट्विटर पर कई दिनों तक ट्रेंडिंग किया गया। उन महिलाओं में से कई पत्रकार, वकील, रेडियो एंकर, सड़सठ साल के मुस्लिम महिला भी शामिल थे।

सिर्फ आज का बात नहीं है, पिछले साल जुलाई में इसके जैसा यह कॉल सोशल मीडिया प्लेटफार्म थी जिसका नाम था Sulli Deals। Bulli Bai के जैसे इसमें भी मुस्लिम महिलाओं और लड़कियों को निशाना बनाया गया था, पुलिस में पिछली बार भी मामला दर्ज कर लिया था लेकिन पिछली बार कोई गिरफ्तार नहीं हुआ। इस एप्लीकेशन में विरोध पे आवाज उठाने वाले मुस्लिम महिलाओं को निशाना बनाया गया। इस बार भी पुलिस ने FIR दर्ज कर ली है। लेकिन इस बार भारत सरकार ने इसके ऊपर कड़ी करवाई करने की अनुमति दी है। भारतीय सरकार ने Bulli Bai एप्लीकेशन ऊपर सख्त कदम उठाते हुए इस एप्लीकेशन को ब्लॉक कर दिया है।

इस समाचार के बाकी डीटेल्स जाने से पहले आपको जान लेना चाहिए Bulli Bai क्या है?

बुल्ली बाई,Bulli Bai क्या है?

Github एक पोस्टिंग प्लेटफार्म है गुल्ली बुल्ली बाई,Bulli Bai बनाया गया था, इस ऐप को ठीक Sulli Deals एप्लीकेशन की तरह बनाया गया था रिस्पेक्ट पहले कई तरह की दीवार हो चुकी है। यहां आपको यह भी बता दें कि Github एक ओपन सोर्स प्लेटफॉर्म है जहां पर कोई भी यूज़र ईमेल के द्वारा एप्लीकेशन बना सकती है।

Bulli Bai एप्लीकेशन में 100 से ज्यादा प्रतिष्ठित मुस्लिम महिलाओं के सोशल मीडिया से फोटो डाउनलोड करके, और उसके नीचे”your Bulli Bai Of the day is” लिखकर प्रदर्शित किया, जिसमें लोगों ने भद्दे कॉमेंट की और बोली लगाई और फिर से #Bulli Bai के साथ दिन रात ट्रेंड करवाई।

Bulli Bai एप्लीकेशन का खुलासा

Ismat Ara जो वेयर के एक सीनियर जर्नलिस्ट थे जो इस शर्मनाक मामलों का सीकर बनाया गया। सूत्रों के अनुसार, आरा न्यू ईयर के दिन जब उठे तब उन्होंने उनके सोशल मीडिया हैंडल पर न्यू ईयर विशेष और मैसेज चेक करने गए, तब उन्होंने रियेलाईज किया कि यह वास्तव में कोई नए साल की शुभकामनाएं नहीं है बल्कि एक स्क्रीनशॉट है जिसमें उनकी तस्वीर थी जिसके नीचे “your Bulli Bai Of the day is” लिखा था। तब उन्होंने दिल्ली के साइबर सेल पर जाकर कंप्लेन की। एक इंटरव्यू के दौरान उन्होंने यह भी बोला था की जब वह रिपोर्ट करने गया, उनके केस आधारित पुलिस का रिस्पांस कमजोर था, और पहली बार आरा यकीन नहीं थी, कि उनके करी गई FIR दर्ज करी गई थी या नहीं।

उन्होंने यह भी बोला, कि यह घटना उनके पास कोई अनएक्सपेक्टेड नहीं था, उनके यह बात बोलने के पीछे क्या कारण है वह भी उन्होंने बोला है। उन्होंने बोला है कि, 6 महीने आगे एक ऐसा ही केस (Sulli Deals case) आया था, तब भी खबर बनी थी, बहुत लोगों ने होम मिनिस्टर को उस केस के बारे में पत्र भी लिखी थी, कहीं FIR वी दर्ज करा गया था, लेकिन उस केस की कोई खास रिजल्ट नहीं आई थी।

Ismat Ara के जैसे कई मुस्लिम महिलाओं को इस घिनौनी दौड़ से गुजारना पड़ रहा है। आसपास के स्टेट में से भी कई एफ आई आर दर्ज हुई है, और मुंबई पुलिस मैं बोला है की उनके ऊपर वह कड़ी छानबीन करेंगे।

Bulli Bai कैसे संबंध 21 वर्षीय स्टूडेंट हुए गिरफ्तार

इस घटना के खिलाफ सरकार की कार्रवाई

सरकार को इस पटना के बारे में मालूम होते ही Bulli Bai एप्लीकेशन कोब्लॉक कर दिया। सरकारी कई प्रतिनिधियों ने इस मामले के खिलाफ कड़ी छानबीन करने का मांग किया है। Bulli Bai से जुड़े हुए कई ट्विटर अकाउंट को साहिबा फिल्म दोबारा बेन करा गया है। इस मामले के साथ संबंध होने के कारण, बेंगलुरु में 21 वर्षीय एक स्टूडेंट को पुलिस ने गिरफ्तार कर है। लेकिन उस स्टूडेंट की नाम और कोई पर्सनल डीटेल्स पुलिस ने खुलासा नहीं किया है। इस मामले के साथ संबंध होने के कारण, आज ही एक महिला को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

Bulli Bai घटना के ऊपर क्या राय है सरकारी प्रतिनिधियों की?

Bulli Bai इंसीडेंट के ऊपर कई सरकारी प्रतिनिधियों ने अपना राय दी है, चलिए देखते हैं एक नजर में-

priyanka chaturvedi, the member of raajya sabha, उन्होंने आईटी मिनिस्टर को रिक्वेस्ट की है, उन्होंने जब तक, ऐसे लोगों को गिरफ्तार नहीं करते जो महिला को लेकर ऐसा आलोचना करते हैं तो यह घटना फिर से दौड़ेगा। और उन्होंने मुंबई पुलिस को पर्सनली बोला है की, ताकि इस केस में मुंबई पुलिस सख्त कार्रवाई करे।

asaduddin owaisi, the member of raajya sabha, उन्होंने इस मामले को लेकर बहुत ही शर्मिंदगी महसूस की ही है। उन्होंने बोला है कि- “MHA मैं जो काउंटर काउंटर रेडिकलाइजेशन सेल है वह हरकत में आए, काउंटर रेडिकलाइजेशन सेल तो सिर्फ मुसलमानों के लिए इस्तेमाल होता है इनके लिए इस्तेमाल नहीं होता है, यह कौन है जो इतने रिड्यूफलस सोकर देश के महिलाओं को और देश के बच्चियों के तस्वीर डाल कर इस तरह से बर्ताव कर रहा है”।

SourceIndia tv
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments